शनिवार, 23 जनवरी 2021

नारी सम्मान में सामाजिक मैदान में उतरे बिना शस्त्र लिये, विशेष सशस्त्र बल के जवान , कर्मचारी और कमांडेट विनीत कुमार जैन , समाज को जागरूक कर बदलने की मुहिम में आज तमाम आयोजन बच्चों के लिये किये गये

पुलिस मुख्यालय से प्राप्त निर्देशानुसार महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता अभियान 11 जनवरी, 2021 से संपूर्ण मध्यप्रदेश में प्रारंभ किया गया है। माननीय श्री शिवराज सिंह चौहानमुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन द्वारा दिनांक 11.01.2021 को भोपाल में इसका शुभारंभ किया गया। इसी तारतम्य में इस इकाई में दिनांक 20.01.2021 से लगातार 05वीं वाहिनी विशेष सशस्त्र बलमुरैना द्वारा वाहिनी के समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों एवं वाहिनी के परिवार की महिलाओं, बालक-बालिकाओं के लिए महिला अपराध जागरूकता हेतु विभिन्न प्रतियोगिताओं द्वारा जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है जिसमें आज दिनांक 23-01-2021 को प्रातः 11-00 बजे निबंध प्रतियोगिता "नारी शक्ति एवं समानता" से संबंधित विषयों पर आयोजित की गई, एवं दोपहर 03-00 बजे इन्हीं से संबंधित विषयों पर वाद-विवाद प्रतियोगिता भी आयोजित की गई, जिसमें बालक-बालिकाओं द्वारा बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया गया। उपरोक्त कार्यक्रम में सेनानी विनीत कुमार जैन एवं अन्य अधिकारी, कर्मचारियों के मार्गदर्शन एवं उपस्थिति में बच्चों को प्रोत्साहित किया गया। प्रतियोगिता के अंत में स्वल्पाहार एवं चॉकलेट का वितरण भी सेनानी के द्वारा किया गया 

पुलिस मुख्यालय से प्राप्त निर्देशानुसार महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता अभियान 11 जनवरी, 2021 से संपूर्ण मध्यप्रदेश में प्रारंभ किया गया है। माननीय श्री शिवराज सिंह चौहानमुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन द्वारा दिनांक 11.01.2021 को भोपाल में इसका शुभारंभ किया गया। इसी तारतम्य में इस इकाई में दिनांक 20.01.2021 से लगातार 05वीं वाहिनी विशेष सशस्त्र बलमुरैना द्वारा वाहिनी के समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों एवं वाहिनी के परिवार की महिलाओं, बालक-बालिकाओं के लिए महिला अपराध जागरूकता हेतु विभिन्न प्रतियोगिताओं द्वारा जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है जिसमें आज दिनांक 23-01-2021 को प्रातः 11-00 बजे निबंध प्रतियोगिता "नारी शक्ति एवं समानता" से संबंधित विषयों पर आयोजित की गई, एवं दोपहर 03-00 बजे इन्हीं से संबंधित विषयों पर वाद-विवाद प्रतियोगिता भी आयोजित की गई, जिसमें बालक-बालिकाओं द्वारा बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया गया। उपरोक्त कार्यक्रम में सेनानी विनीत कुमार जैन एवं अन्य अधिकारी, कर्मचारियों के मार्गदर्शन एवं उपस्थिति में बच्चों को प्रोत्साहित किया गया। प्रतियोगिता के अंत में स्वल्पाहार एवं चॉकलेट का वितरण भी सेनानी के द्वारा किया गया 

पुलिस मुख्यालय से प्राप्त निर्देशानुसार महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता अभियान 11 जनवरी, 2021 से संपूर्ण मध्यप्रदेश में प्रारंभ किया गया है। माननीय श्री शिवराज सिंह चौहानमुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन द्वारा दिनांक 11.01.2021 को भोपाल में इसका शुभारंभ किया गया। इसी तारतम्य में इस इकाई में दिनांक 20.01.2021 से लगातार 05वीं वाहिनी विशेष सशस्त्र बलमुरैना द्वारा वाहिनी के समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों एवं वाहिनी के परिवार की महिलाओं, बालक-बालिकाओं के लिए महिला अपराध जागरूकता हेतु विभिन्न प्रतियोगिताओं द्वारा जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है जिसमें आज दिनांक 23-01-2021 को प्रातः 11-00 बजे निबंध प्रतियोगिता "नारी शक्ति एवं समानता" से संबंधित विषयों पर आयोजित की गई, एवं दोपहर 03-00 बजे इन्हीं से संबंधित विषयों पर वाद-विवाद प्रतियोगिता भी आयोजित की गई, जिसमें बालक-बालिकाओं द्वारा बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया गया। उपरोक्त कार्यक्रम में सेनानी विनीत कुमार जैन एवं अन्य अधिकारी, कर्मचारियों के मार्गदर्शन एवं उपस्थिति में बच्चों को प्रोत्साहित किया गया। प्रतियोगिता के अंत में स्वल्पाहार एवं चॉकलेट का वितरण भी सेनानी के द्वारा किया गया 
 

महिला अपराधों में कमी के लिये मुरैना पुलिस के अधिकारीयों ने छेड़ी सामाजिक जागरूकता की मुहिम, महिलाओं के सम्मान में रथ और रैली निकाल शपथ ली और अपने बच्चों को भी दिलाई

 पुलिस मुख्यालय से प्राप्त निर्देशानुसार महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता अभियान 11 जनवरी, 2021 से संपूर्ण मध्यप्रदेश में प्रारंभ किया गया है। माननीय श्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन द्वारा दिनांक 11.01.2021 को भोपाल में इसका शुभारंभ किया गया। दिनांक 22.01.2021 को 05वीं वाहिनी विशेष सशस्त्र बल, मुरैना के परेड ग्राउण्ड पर प्रातः 10.30 बजे वाहिनी के समस्त अधिकारियों, जवानों एवं वाहिनी के परिवार के लगभग 300 बच्चों को महिला सुरक्षा के संबंध में शपथ दिलाई गई।
शपथ के उपरांत एक सम्मान रैली का आयोजन किया गया। सम्मान रैली के लिए एक सम्मान रथ तैयार किया गया, जिसमें पुलिस मुख्यालय द्वारा उपलब्ध कराए गए फ्लेक्स/पोस्टर लगाए गए थे। तत्पश्चात् सम्मान अभियान की शुभंकर गुड्डी का चित्र एवं पुलिस मुख्यालय द्वारा उपलब्ध कराए गए विभिन्न फ्लेक्स एवं नारों को छोटी-छोटी तख्तियों पर लगाकर सम्मान रैली वाहिनी के परेड ग्राउण्ड  से प्रारंभ होकर गेट क्रमांक 02 से व्ही.आई.पी. रोड होते हुए वाहिनी की आवासीय लाइन, फर्स्ट यू, सेकेण्ड यू, थर्ड यू लाइन, पुरानी लाइन एवं नवीन आवासों से निकाली गई। रैली के दौरान रैली में शामिल हुए पुलिस परिवार के लगभग 300 बालक-बालिकाएं पूरे जोश के साथ विभिन्न नारे लगा रहे थे, जैसे- ’’नारी का सम्मान, असली हीरो की पहचान’’, ’’नारी शक्ति, जिन्दाबाद’’। जब रैली वाहिनी के आवासीय परिसर से होकर निकल रही थी तो उस समय वाहिनी के परिवारों द्वारा बच्चों को मिष्ठान वितरण किया गया। तत्पश्चात् वाहिनी परेड ग्राउण्ड पर रैली का समापन हुआ एवं पुलिस अधिकारियों, जवानों एवं सभी बच्चों के स्वल्पाहार के साथ कार्यक्रम समाप्त हुआ।
इसके पूर्व दिनांक 20 एवं 21 जनवरी, 2021 को वाहिनी के प्रशिक्षण हाॅल में पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों, पुलिस परिवार की महिलाओं एवं बालक-बालिकाओं के लिए महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता हेतु विशेष प्रशिक्षण दिया गया था।
आगामी दिनांकों में सम्मान कार्यक्रम के अंतर्गत वाहिनी के पुलिस परिवार के बच्चों के लिए ड्राइंग, निंबध, वाद-विवाद एवं रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की जावेगी।

पुलिस मुख्यालय से प्राप्त निर्देशानुसार महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता अभियान 11 जनवरी, 2021 से संपूर्ण मध्यप्रदेश में प्रारंभ किया गया है। माननीय श्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन द्वारा दिनांक 11.01.2021 को भोपाल में इसका शुभारंभ किया गया। दिनांक 22.01.2021 को 05वीं वाहिनी विशेष सशस्त्र बल, मुरैना के परेड ग्राउण्ड पर प्रातः 10.30 बजे वाहिनी के समस्त अधिकारियों, जवानों एवं वाहिनी के परिवार के लगभग 300 बच्चों को महिला सुरक्षा के संबंध में शपथ दिलाई गई।
शपथ के उपरांत एक सम्मान रैली का आयोजन किया गया। सम्मान रैली के लिए एक सम्मान रथ तैयार किया गया, जिसमें पुलिस मुख्यालय द्वारा उपलब्ध कराए गए फ्लेक्स/पोस्टर लगाए गए थे। तत्पश्चात् सम्मान अभियान की शुभंकर गुड्डी का चित्र एवं पुलिस मुख्यालय द्वारा उपलब्ध कराए गए विभिन्न फ्लेक्स एवं नारों को छोटी-छोटी तख्तियों पर लगाकर सम्मान रैली वाहिनी के परेड ग्राउण्ड  से प्रारंभ होकर गेट क्रमांक 02 से व्ही.आई.पी. रोड होते हुए वाहिनी की आवासीय लाइन, फर्स्ट यू, सेकेण्ड यू, थर्ड यू लाइन, पुरानी लाइन एवं नवीन आवासों से निकाली गई। रैली के दौरान रैली में शामिल हुए पुलिस परिवार के लगभग 300 बालक-बालिकाएं पूरे जोश के साथ विभिन्न नारे लगा रहे थे, जैसे- ’’नारी का सम्मान, असली हीरो की पहचान’’, ’’नारी शक्ति, जिन्दाबाद’’। जब रैली वाहिनी के आवासीय परिसर से होकर निकल रही थी तो उस समय वाहिनी के परिवारों द्वारा बच्चों को मिष्ठान वितरण किया गया। तत्पश्चात् वाहिनी परेड ग्राउण्ड पर रैली का समापन हुआ एवं पुलिस अधिकारियों, जवानों एवं सभी बच्चों के स्वल्पाहार के साथ कार्यक्रम समाप्त हुआ।
इसके पूर्व दिनांक 20 एवं 21 जनवरी, 2021 को वाहिनी के प्रशिक्षण हाॅल में पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों, पुलिस परिवार की महिलाओं एवं बालक-बालिकाओं के लिए महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता हेतु विशेष प्रशिक्षण दिया गया था।
आगामी दिनांकों में सम्मान कार्यक्रम के अंतर्गत वाहिनी के पुलिस परिवार के बच्चों के लिए ड्राइंग, निंबध, वाद-विवाद एवं रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की जावेगी।
पुलिस मुख्यालय से प्राप्त निर्देशानुसार महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता अभियान 11 जनवरी, 2021 से संपूर्ण मध्यप्रदेश में प्रारंभ किया गया है। माननीय श्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन द्वारा दिनांक 11.01.2021 को भोपाल में इसका शुभारंभ किया गया। दिनांक 22.01.2021 को 05वीं वाहिनी विशेष सशस्त्र बल, मुरैना के परेड ग्राउण्ड पर प्रातः 10.30 बजे वाहिनी के समस्त अधिकारियों, जवानों एवं वाहिनी के परिवार के लगभग 300 बच्चों को महिला सुरक्षा के संबंध में शपथ दिलाई गई।
शपथ के उपरांत एक सम्मान रैली का आयोजन किया गया। सम्मान रैली के लिए एक सम्मान रथ तैयार किया गया, जिसमें पुलिस मुख्यालय द्वारा उपलब्ध कराए गए फ्लेक्स/पोस्टर लगाए गए थे। तत्पश्चात् सम्मान अभियान की शुभंकर गुड्डी का चित्र एवं पुलिस मुख्यालय द्वारा उपलब्ध कराए गए विभिन्न फ्लेक्स एवं नारों को छोटी-छोटी तख्तियों पर लगाकर सम्मान रैली वाहिनी के परेड ग्राउण्ड  से प्रारंभ होकर गेट क्रमांक 02 से व्ही.आई.पी. रोड होते हुए वाहिनी की आवासीय लाइन, फर्स्ट यू, सेकेण्ड यू, थर्ड यू लाइन, पुरानी लाइन एवं नवीन आवासों से निकाली गई। रैली के दौरान रैली में शामिल हुए पुलिस परिवार के लगभग 300 बालक-बालिकाएं पूरे जोश के साथ विभिन्न नारे लगा रहे थे, जैसे- ’’नारी का सम्मान, असली हीरो की पहचान’’, ’’नारी शक्ति, जिन्दाबाद’’। जब रैली वाहिनी के आवासीय परिसर से होकर निकल रही थी तो उस समय वाहिनी के परिवारों द्वारा बच्चों को मिष्ठान वितरण किया गया। तत्पश्चात् वाहिनी परेड ग्राउण्ड पर रैली का समापन हुआ एवं पुलिस अधिकारियों, जवानों एवं सभी बच्चों के स्वल्पाहार के साथ कार्यक्रम समाप्त हुआ।
इसके पूर्व दिनांक 20 एवं 21 जनवरी, 2021 को वाहिनी के प्रशिक्षण हाॅल में पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों, पुलिस परिवार की महिलाओं एवं बालक-बालिकाओं के लिए महिला अपराधों में कमी लाने के लिए जागरुकता हेतु विशेष प्रशिक्षण दिया गया था।
आगामी दिनांकों में सम्मान कार्यक्रम के अंतर्गत वाहिनी के पुलिस परिवार के बच्चों के लिए ड्राइंग, निंबध, वाद-विवाद एवं रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की जावेगी।

गुरुवार, 21 जनवरी 2021

माफिया से प्रशासन ने करोड़ों की शासकीय जमीन से अतिक्रमण हटाया 15 एकड़ से अधिक शासकीय भूमि हुई अतिक्रमण-मुक्त

जबलपुर में माफियाओं के रसूख को नेस्तनाबूद करने चलाये जा रहे अभियान के तहत गुरुवार को कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा के निर्देश पर एक साथ 6 स्थानों पर बड़ी कार्यवाही की गई। इस कार्यवाही में 25 करोड़ 46 लाख रुपये अनुमानित बाजार मूल्य की 15 एकड़ से अधिक शासकीय भूमि को अवैध कब्जे से मुक्त कराया गया।

जबलपुर की पनागर तहसील के ग्राम पिपरिया बनियाखेड़ा में रसूखदार वीरेन्द्र पटेल के कब्जे से करीब 18 करोड़ 66 लाख रुपये बाजार मूल्य की 12 एकड़ शासकीय भूमि को मुक्त कराया गया। स्कूल एवं मुख्य सड़क से लगी बेशकीमती जमीन पर पूर्व सरपंच वीरेन्द्र पटेल द्वारा 15 वर्षों से कब्जा कर खेती की जा रही थी। इसके पूर्व एक बार इस शासकीय भूमि को कब्जामुक्त कराया गया था, किन्तु वीरेन्द्र पटेल द्वारा दोबारा फैंसिंग कर कब्जा कर खेती की जा रही थी। पूर्व सरपंच वीरेन्द्र पटेल के भय के कारण गाँव का कोई भी व्यक्ति उसकी शिकायत करने की हिम्मत नहीं कर पाता था।

जिला प्रशासन की अगुवाई में पुलिस और नगर निगम के सहयोग से की गई कार्यवाही के दौरान हिस्ट्रीशीटर और निगरानीशुदा बदमाश मोहम्मद शमीम उर्फ शमीम कबाड़ी द्वारा खजरी में पत्नी संजीदा बी के नाम पर बनाये जा रहे आलीशान घर के अवैध हिस्से को जमींदोज करने के साथ-साथ उसके द्वारा नजदीकी ग्राम चांटी में बनाये गये गोदाम को भी जेसीबी मशीनों की सहायता से ध्वस्त कर दिया गया। उल्लेखनीय है कि हिस्ट्रीशीटर शमीम कबाड़ी के विरुद्ध थाना गोहलपुर, सिविल लाइन में धोखाधड़ी, मारपीट, तोड़फोड़ तथा आरपीएफ थाना जबलपुर एवं कटनी में रेल सम्पत्ति पर अवैध कब्जा अधिनियम के अपराध पंजीबद्ध हैं। शमीम द्वारा अवैध कब्जा कर निर्मित हवेलीनुमा मकान का 1700 वर्गफुट का हिस्सा और किलेनुमा शक्ल में निर्मित गोदाम का 800 वर्गफुट का अवैध हिस्सा भी जमींदोज किया गया। इसका अनुमानित बाजार मूल्य 74 लाख रुपये है।

जिला प्रशासन ने एक अन्य कार्यवाही में ग्राम पिपरिया, बनियाखेड़ी निवासी मोहनलाल पटेल द्वारा शासन की करीब 2 करोड़ 5 लाख रुपये बाजार मूल्य की 3 एकड़ जमीन पर कब्जा कर अवैध रूप से गोदाम व दुकानों के निर्माण को जमींदोज किया गया। इसी प्रकार खजरी में अबरार कबाड़ी के द्वारा शासन की चरणोई भूमि के 6 हजार वर्गफुट पर अवैध कब्जा कर गोदाम का निर्माण कराया गया था, जिसका व्यावसायिक उपयोग भी किया जा रहा था। प्रशासन ने इस निर्माण को ध्वस्त कर करीब 3 करोड़ 40 लाख रुपये बाजार मूल्य की जमीन को कब्जामुक्त कराया।

इसी प्रकार पिपरिया बनियाखेड़ा में 1500 वर्गफुट शासकीय भूमि पर प्रेमलाल द्वारा अवैध कब्जा कर दुकानों का निर्माण कराया गया था। आज की गई कार्यवाही में करीब 60 लाख रूपये बाजार मूल्य की जमीन को मुक्त कराने अतिक्रमण ढहाये गये।




 

शुक्रवार, 8 जनवरी 2021

फेल हुई म प्र के जनसंपर्क विभाग की जिला वेबसाइटें , समाचार में आने वाले फोटो एक्सेसेबल नहीं , न बड़े करके देखे जा सकतें हैं ओर न डाउनलोड किये जा सकते हैं

 म प्र शासन के जनसंपर्क विभाग की जिला वेबसाइटें टेक्नीकली अनफिट स्टाफ के कारण पूरी तरह से रोजाना ही फेलुअर हो रहीं हैं , श्योपुर , ग्वालियर , भिण्ड आदि तमाम जिलों की जनसंपर्क विभाग की वेबसाइटों की हालत बेहद खस्ता है । 

हालांकि इस वेबसाइट पर जनसंपर्क विभाग तो रोजाना अपने समाचार अपडेट करता है लेकिन , वेबसाइट को आपरेट करने वाले और होस्टिंग सर्वर व डाटाबेस सर्वर पर जगह बचाने और म प्र सरकार को चूना लगाने की गरज से , वेबसाइट को मेंटैन कर रहे लोगों के कारण इस वेबसाइट की दिनोंदिन हालत खस्ता होती चली जा रही है । 

प्रायवेट डोमेन पर होस्ट होती है वेबसाइट - सरकारी वेबसाइटों के डोमेन सभी .gov के TLD साथ ही आते हैं लेकिन यह वेबसाइट इसके बगैर सीधे ही .org  के  TLD के साथ चलती है , जाहिर है इसलिये इसका होस्टिंग और डाटाबेस  सर्वर दोनों ही प्रायवेट हैं । 

फिर भी किसी सरकारी विभाग की वेबसाइट चलाने के लिये मुकम्मल तकनीकी ज्ञान व प्रौद्योगिकी परम आवश्यक है , वेबसाइट की परफार्मेन्स से एकदम बिना शक स्पष्ट है कि इस वेबसाइट को आपरेट कर रहे लोगों के पास न तो मुकम्मल टेक्नीकल ज्ञान है और न पर्याप्त प्रौद्योगिकी की सुविधायें । या फिर जम कर पेसा कमाने का लोभ लालच भरा हुआ है जो एक सरकारी वेबसाइट के लिये एक इफीशियेंट एप्लीकेशन / एप्लीकेशंस और होस्टिंग सर्वर और डाटाबेस सर्वर का इस्तेमाल नहीं कर सकता । और जगह बचाने के लिये जिलों के फोटोग्राफ्स तक को आइकानिक मात्र में व्यू अपलोड होने देता है और उस इमेज की डिटेल्स व्यू को सर्वर पर आने ही नहीं देता , डाटाबेस की क्वालिटी इतनी अधिक खराब है कि बीच बीच में ही डाटाबेस सर्वर डंप होकर गायब होता रहता है और वेबसाइट से कनेक्शन टूटता रहता है । 

वीडियो नाम की चीज तो कभी भी आज तक जिलों की इन वेबसाइटों पर कभी नजर ही नहीं आई । न कभी कोई वीडियो किसी भी जिले से आज तक अपलोड ही हुआ है । 

सबसे बड़ी खामी इस वेबसाइट की 

इस वेबसाइट की सबसे बड़ी खामी है कि हर जिला जनसंपर्क कार्यालय तो रोजाना समाचार अपडेट करता है लेकिन इस वेबसाइट का फीड कहीं पर भी उपलब्ध नहीं है , इसलिये इसके समाचार केवल इसी तक ही रह जाते हैं और आटोमेटिकली ही सारे देश में हर जगह प्रकाशित और प्रचारित प्रसारित नहीं हो सकते । 

मध्यप्रदेश सरकार की जनसंपर्क विभाग की संचालनालय से चलने वाली राज्य स्तरीय वेबसाइट जहां फीड भी साथ ही प्रकाशित करता है तो इसके ठीक उलट जिला स्तरीय वेबसाइट कभी भी किसी प्रकार का फीड प्रकाशित नहीं करती । यही वजह है कि ग्वालियर टाइम्स की हर वेबसाइट पर राज्य जनसंपर्क संचालनालय के समाचार सीधे ही संचालनालय से आटोमेटिक प्रकाशित होते हैं और अपने आप ही आटोमेटिकली अपडेट भी होते रहते हैं । फीड के अभाव में भारत तो क्या विश्व की कोई भी वेबसाइट या न्यूज चैनल इनका आटो अपडेट कभी नहीं प्राप्त कर सकता । इसलिये बहारहाल आदिम युग की व्यवस्था इस वेबसाइट पर आज तक चल रही है , जब समाचार किी जिले का आये तब हर वक्त इस वेबसाइट को खोलो , समाचार पढ़ो उसके बाद एक एक समाचार को अलग अलग से लो फिर अपनी वेबसाइट / न्यूज चैनल पर चिपकाते जाओ , मतलब महज 10 सेकंंड का काम आप 23 घंटे में करेंगें , और उसमें भी केवल दस जिलों से अधिक के समाचार किसी भी दशा में कोई भी न्यूज पोर्टल या न्यूज चैनल कभी लगा ही नहीं सकता । 

यदि इस वेबसाइट पर फीड उपलब्ध होता तो पूरे म प्र के सभी के सभी 54 जिलों के समाचार / फोटो / वीडियो वगैरह वगैरह सभी के सभी अपने आप ही , उस जिले द्वारा समाचार/फोटो/ वीडियो आदि आदि अपलोड करने के महज दस सेकंड के भीतर केवल भारत ही नहीं बल्कि विश्व के न्यूज पोर्टलो और न्यूज चैनलों पर अपने आप अपडेट होते रहते , न किसी को बार यहां एक एक जिले का एक एक समाचार और एक एक अक्षर लेकर अपने मीडिया में लगाना पड़ता और हर वक्त 24 घंटे किसी को इंटरनेट पर केवल एक दो तीन दस जिलों का समाचार लेना और लगाना पड़ता । केवल एक इस छोटी सी टेक्लानाजी से आज समूचे विश्व भर का मीडिया चल रहा है , ओर शायद ही भारत में कोई भी मीडिया हाउस होगा जो बगैर फीड के चलता होगा , भारत के सभी मीडिया हाउस के सभी न्यूज पोर्टल और न्यूज चैनल इसी फीड का उपयोग कर अपने यहां दिखाते हैं और सारे समाचार अपने आप ही हर मीडिया में भारत भर के अपडेट होते रहते हैं , यही वजह है कि सबकी सारी खबरें भारत का पूरा मीडिया प्रकाशित करता और दिखाता है , लेकिन म प्र के किसी भी जिले की कोई भी सरकारी खबर दिखाने के लिये या तो उसे अपना करसपोंडेंट हर जिले में नियुक्त कर उससे खबर अपडेट लेनी होगी और वह भी दिन भर में या हफ्ते पंद्रह दिन में कोई एक ब्रेकिंग खबर अपडेट करेगा , लेकिन रोजाना हर जिले का हर समाचार कहीं प्रकाशित हो या प्रसारित हो इसके लिये फीड होना वेबसाइट पर परम आवश्यक है , तब फिर किसी भी जिला संवाददाता की मनमर्जी पर खबर आधारित व आश्रित नहीं होती और अपने आप हर जगह अपडेट होती रहती है । 

सन 2007 से 2009 तक यह जिलों की यह वेबसाइट बनाने और चलाने का ऑफर ग्वालियर टाइम्स को सबसे पहले दिया था , जनसंपर्क संचालनालय ने 

जनसंपर्क विभाग की जिलों की यह वेबसाइट बनाने का और चलाने का सबसे पहला शुरूआती ऑफर ग्वालियर टाइम्स को जनसंपर्क संचालनालय भोपाल के अधिकारीयों द्वारा सन 2007 में दिया गया था , ग्वालियर टाइम्स के पास यह ऑफर सन 2009 तक पेंडिंग रहा , अंतत: समय की कमी के कारण ग्वालियर टाइम्स ने इसे रिफ्यूज कर दिया, उसके उपरांत यह वेबसाइट किसी अन्य के माध्यम से जनसंपर्क संचालनालय ने तैयार कराई और चलवाई । प्रश्न इस बात का नहीं है कि किसने बनाई और चलाई और कौन मैंटेन कर रहा है, सवाल केवल बस इतना सा है कि जब पैसा ले रहे हो , पैसा लिया है तो काम भी उसी क्वालिटी का करके दो । हमें तो उस समय जनसंपर्क संचालनालय पूरे राज्य के लिये करोड़ों रूपये पहली साल और फिर लाखों रूपये हर जिले के मान से हर साल देने को तैयार था । 

इसलिये नुकसान तो घुमा फिरा कर म प्र सरकार का ही है । इसलिये जो भी सज्जन इसे चला रहे हैं , लोभलालच और मक्कारी छोड़ें वरना , आधी और के चक्कर में पूरी ही हाथ से निकल जायेगी , हमसे कुछ मार्गदर्शन चाहिये तो अपने लोगों को भेज दो हम दो तीन महीने की ट्रेनिंग दे देंगें ।          

म.प्र. जन अभियान परिषद के नवनियुक्त उपाध्यक्ष विभाष उपाध्याय ने ग्रहण किया कार्यभार, उपाध्याय ने कहा- अनुसंधान, प्रशिक्षण और विस्तार पर कार्य करेगा जन अभियान परिषद

भोपाल 07 जनवरी 2021 ग्वालियर टाइम्स । मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद् के नवनियुक्त उपाध्यक्ष श्री विभाष उपाध्याय ने आज वेदमंत्रोच्चार के साथ अपना कार्यभार ग्रहण किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि तीर्थ एवं मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष केबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त श्री माखन सिंह चौहान,  विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉ हितेश वाजपेयी, जन अभियान परिषद् के महानिदेशक श्री बी.आर. नायडू तथा कार्यपालक निदेशक श्री धीरेन्द्र पाण्डेय उपस्थित थे।
कार्यक्रम के स्वागत भाषण में जन अभियान परिषद के महानिदेशक पूर्व आई.ए.एस. श्री बी.आर. नायडू ने कहा कि प्रदेश की प्रगति को आगे बढ़ाने में सबसे आवश्यक है जनभागीदारी सुनिश्चित करना। यह महत्वपूर्ण कार्य जन अभियान परिषद् अपने प्रारम्भ से कर रहा है। संगठन ने एकात्म यात्रा, नर्मदा यात्रा, स्वच्छ भारत मिशन, सर्वशिक्षा अभियान एवं अन्य सामाजिक मुददों पर अभियान चलाया है। आपके मार्गदर्शन में लक्ष्य तक पहुचने की जिम्मेदारी हम सब पर है।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ हितेश वाजपेयी ने कहा कि आज उनके लिये भावुक प्रसन्नता का विषय है आज के दिन हम जन अभियान परिषद् के जनक श्री अनिल माधव दवे जी को स्मरण करते है। आपने कहा कि प्रधानमंत्री जी एवं मुख्यमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत तथा आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए परिषद् पहले से ही कार्यरत है।
श्री माखन सिंह जी ने कहा कि जन अभियान परिषद् में कार्यरत अमला केवल नौकरी कर अपने कार्यों की इतिश्री नहीं करता परन्तु परिषद् के कर्मचारी संवेदनशीलता के साथ अपना कार्य संपादित करते है। यह अभियान सरकार और जनता को सीधे जोडने का अभियान है। आपने कहा कि जब परिश्रम राष्ट्र के साथ जुडता है तब उस कार्य में भाव व गुणवत्ता आ जाती है। नवनियुक्त उपाध्यक्ष श्री विभाष जी गुणवत्ता, सक्षमत्ता तथा कल्पनाशीलता से भरे हुये व्यक्ति है परन्तु एकान्तिक नहीं है तथा आप सर्वसमावेशी होने के अभ्यस्थ है उनके गुणों का लाभ जन अभियान परिषद को मिलेगा।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये नवनियुक्त उपाध्यक्ष श्री विभाष उपाध्याय ने कहा कि जन अभियान परिषद् के कार्यकर्ता योद्धा है, योद्धा वह होता है जो विपरीत परिस्थितियों का सामना कर बाहर निकलता है। आपने कहा कि जन अभियान परिषद के कार्यों से मेरा पूर्व से ही परिचय रहा है। जन अभियान परिषद् का क्षेत्रीय अमला मुझ से मिला तब उन्होंने मुझसे अपने कार्य को आगे बढाने की चर्चा की। जन अभियान का अमला विश्वास और प्रेरणा से भरा हुआ है। उत्साही कार्यकर्ताओं से भरा हुआ संगठन अपने विजय उद्देश्यों को प्राप्त करेगा ही इसमें जरा भी संशय नहीं है।

श्री उपाध्याय ने कहा कि जन अभियान परिषद् को अनुसंधान, प्रशिक्षण और विस्तार पर कार्य करना होगा। प्रशिक्षण और विस्तार पर पूर्व में भी कार्य हुआ है परिषद द्वारा संचालित सीएमसीएलडीपी. कोर्स एक बहुत सुन्दर प्रयोग है। इसके माध्यम से हमें प्रशिक्षत कार्यकर्ता मिले है।
हमारी प्राथमिकता का क्षेत्र अनुसंधान होना चाहिये। अनुसंधान हमारे कार्य का आवश्यक अंग है। अनुसंधान द्वारा हम नये आयामों तक पहुच सकते है इसके लिये रिसर्च बहुत आवश्यक है। कार्य के विस्तार के लिये परिषद स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ कार्य कर रही है। जन अभियान परिषद जैसे बहुआयामी संगठन के लिये रणनीति तय करना अत्यंत आवश्यक है।
उन्होंने कहा कि जन अभियान परिषद में वर्तमान के संकेत बताते है कि परिषद में शिखर से शून्य तक की जो यात्रा प्रारंभ हो गयी थी वह केवल आकाश का कुसुम बनकर नहीं रहेगी बल्कि अभ्युदय को प्राप्त करेगी।
कार्यपालक निदेशक डॉ. धीरेन्द्र कुमार पाण्डेय जी ने अतिथियों का आभार प्रकट करते हुये कहा कि जन अभियान परिषद् का नेटवर्क प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों एवं लगभग सभी ग्रामों तक विद्यमान है। ग्राम-ग्राम में प्रस्फुटन समितियां सी.एम.सी.एल.डी.पी. के छात्र, सामाजिक संस्थायें कार्यरत है। कोरोना काल में मुख्यमंत्री जी के एक आवाहन पर समितियों ने गॉव गॉव में जागरूकता अभियान चलाकर समाज को जागरूक किया। साथ ही बडी संख्या में मास्क बनाकर वितरित किए। बहुत ही थोडे समय की सूचना पर किसी भी कार्यक्रम/अभियान को सफल करने में सक्षम है। जन अभियान परिषद पूर्व के समान ही नवीन आयामों को प्राप्त करेगा। कार्यक्रम का संचालन जन अभियान परिषद के उपनिदेशक श्री अमिताभ श्रीवास्तव ने किया। 


युवा दिवस के उपलक्ष्य में रक्तदान शिविर 10 जनवरी को जिला अस्पताल में करेंगें युवा

 उज्जैन। यूथ हॉस्टल्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया की उज्जैन इकाई एवं राज्य आनंद संस्थान द्वारा संयुक्त रूप से स्वामी विवेकानंद जयंती के उपलक्ष्य में 10 जनवरी 2021, रविवार को रक्तदान शिविर का आयोजन शासकीय जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में किया जा रहा है।

कार्यक्रम संयोजक दिलीप पवार एवं कृष्णकांत सोलंकी ने बताया कि युवा दिवस के उपलक्ष्य में रक्तदान कार्यक्रम किया जाएगा जिसमें कोई भी व्यक्ति अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकता है। राज्य आनंद संस्थान के उज्जैन जिला संयोजक डॉ. प्रवीण जोशी के अनुसार रक्तदान कार्यक्रम कोविड नियमों का पालन करते हुए किया जाएगा।  रक्तदान के पश्चात स्वल्पाहार की व्यवस्था संस्था द्वारा रहेगी। रजिस्टेशन के लिए निम्र नंबरों पर संपर्क किया जा सकता है-9406618161, 9329598101.
 संस्था सचिव अनूप श्रीवास्तव ने अधिक से अधिक संख्या में रक्त दान करने की अपील की है।

घरेलू हिंसा पर काम करने वाली स्वयंसेवी संस्थाओं से पुरूस्कार हेतु 31 जनवरी 2021 तक आवेदन आमंत्रित किये गये

 Womanity Award (4th round) to prevent Domestic Violence against Women and Girls

First launched in 2014, the Womanity Award works to surface innovative solutions to prevent violence against women and girls (VAWG) from around the world. It focuses on the power of collaboration to address the root cause of VAWG.

Approximately every two years, we select a pair of organisations in the Global South who then work together for three years. One of these is the Innovation Partner (IP) who has an innovative evidence based approach to prevent violence against women and girls. They support them to help them increase their reach by adapting their programme in partnership with another organisation.

The other organisation is the Scale-Up Partner (SP) who receives support adapt and deliver the tried-and-tested innovation in their own location. Both organisations share knowledge and learn from each other through a partnership based upon balanced power and mutual respect.

They have launched three rounds of the Womanity Award to date. Each of them has focused on a different theme related to violence against women and girls. These have included engaging men and boys, online violence and women’s safety in public spaces.

Goals

  • Scale-up innovation through adaptation’, a model specifically designed to leverage strong, pre-existing ideas to end VAWG, rather than spend time and resources reinventing the wheel.
  • Act as a catalyst and accelerate the dissemination of learning, of promising practices and of impactful models addressing VAWG across different geographies and help to build transnational collaborations.
  • Strengthen the institutional capacity of both partner organisations and exchange knowledge with Womanity, the partner organisations and the field.

Eligibility Criteria

  • You must be based in the Global South. The Innovation Partner and Scale-Up Partner should be from different countries.
  • You must be a legal, registered organisation.
  • The Innovation and Scale-Up Partners must have a partnership agreed in principle to adapt a programme focused on the prevention of domestic violence against women and girls in the country where Scale-Up Partner is based.
  • You must be able to communicate in English for both the selection process and implementation if selected. (They recognise that this may limit many organizations from taking part in the process, but unfortunately, they don’t have the structure to select and to manage projects in different languages for the time being)
  • A desirable but not mandatory criteria is to have a diverse board and senior leadership with equal/fair representation of women.

Funding

Adaptation Planning Fund

  • Each pair of finalists is granted with CHF 5,000 to cover the time dedicated to plan and additional CHF 2,500 to cover field visits to the country where the programme will be adapted (this will depend on restrictions related to the Covid-19 pandemic).

Womanity Award Fund

  • The awarded pair of organisations will receive the Womanity Award Fund of CHF 320,000 over three years to be shared between them. These funds include: Funds for Adaptation – CHF 240,000 is dedicated to the adaptation of the innovative programme to prevent violence against women and girls in the chosen country. This includes funds for Amplifying Voices.
  • Funds for Institutional Strengthening – CHF 60,000 to cover the costs of experts the partners will commission to work on their organisational development. Funds for Self-Care – CHF 20,000 be used as the partners wish on their self-care needs during the three-year programme.

Womanity Award Seed Fund

  • Each of the two pairs of finalists not awarded will receive the Womanity Award Seed Fund of CHF 30,000. This will enable them to pilot their adaptation plan, to further develop it or to give the partners some support until they are able to secure funding from other donors to implement their plan.

Please send your questions to womanity.award@womanity.orgThey aim to compile all questions received by 08 January 2021 and share the answers on the website so they are available for all.

Deadline: 31 January 2021

फिल्म -रूबरू-संजय गुप्ता मांडिल, मुकेश सिंघल व सुनील जैन, शकील शाह, गांधी कालोनी मुरैना के नाले से

  ग्‍वालियर टाइम्‍स की 200 वीं फ‍िल्‍म - ग्वालियर टाइम्स का साप्ताहिक रविवारीय विशेष कार्यक्रम - जनता की आवाज , हर रविवार को प्रसारित किया ...