शुक्रवार, 8 जनवरी 2021

म.प्र. जन अभियान परिषद के नवनियुक्त उपाध्यक्ष विभाष उपाध्याय ने ग्रहण किया कार्यभार, उपाध्याय ने कहा- अनुसंधान, प्रशिक्षण और विस्तार पर कार्य करेगा जन अभियान परिषद

भोपाल 07 जनवरी 2021 ग्वालियर टाइम्स । मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद् के नवनियुक्त उपाध्यक्ष श्री विभाष उपाध्याय ने आज वेदमंत्रोच्चार के साथ अपना कार्यभार ग्रहण किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि तीर्थ एवं मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष केबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त श्री माखन सिंह चौहान,  विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉ हितेश वाजपेयी, जन अभियान परिषद् के महानिदेशक श्री बी.आर. नायडू तथा कार्यपालक निदेशक श्री धीरेन्द्र पाण्डेय उपस्थित थे।
कार्यक्रम के स्वागत भाषण में जन अभियान परिषद के महानिदेशक पूर्व आई.ए.एस. श्री बी.आर. नायडू ने कहा कि प्रदेश की प्रगति को आगे बढ़ाने में सबसे आवश्यक है जनभागीदारी सुनिश्चित करना। यह महत्वपूर्ण कार्य जन अभियान परिषद् अपने प्रारम्भ से कर रहा है। संगठन ने एकात्म यात्रा, नर्मदा यात्रा, स्वच्छ भारत मिशन, सर्वशिक्षा अभियान एवं अन्य सामाजिक मुददों पर अभियान चलाया है। आपके मार्गदर्शन में लक्ष्य तक पहुचने की जिम्मेदारी हम सब पर है।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ हितेश वाजपेयी ने कहा कि आज उनके लिये भावुक प्रसन्नता का विषय है आज के दिन हम जन अभियान परिषद् के जनक श्री अनिल माधव दवे जी को स्मरण करते है। आपने कहा कि प्रधानमंत्री जी एवं मुख्यमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत तथा आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए परिषद् पहले से ही कार्यरत है।
श्री माखन सिंह जी ने कहा कि जन अभियान परिषद् में कार्यरत अमला केवल नौकरी कर अपने कार्यों की इतिश्री नहीं करता परन्तु परिषद् के कर्मचारी संवेदनशीलता के साथ अपना कार्य संपादित करते है। यह अभियान सरकार और जनता को सीधे जोडने का अभियान है। आपने कहा कि जब परिश्रम राष्ट्र के साथ जुडता है तब उस कार्य में भाव व गुणवत्ता आ जाती है। नवनियुक्त उपाध्यक्ष श्री विभाष जी गुणवत्ता, सक्षमत्ता तथा कल्पनाशीलता से भरे हुये व्यक्ति है परन्तु एकान्तिक नहीं है तथा आप सर्वसमावेशी होने के अभ्यस्थ है उनके गुणों का लाभ जन अभियान परिषद को मिलेगा।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये नवनियुक्त उपाध्यक्ष श्री विभाष उपाध्याय ने कहा कि जन अभियान परिषद् के कार्यकर्ता योद्धा है, योद्धा वह होता है जो विपरीत परिस्थितियों का सामना कर बाहर निकलता है। आपने कहा कि जन अभियान परिषद के कार्यों से मेरा पूर्व से ही परिचय रहा है। जन अभियान परिषद् का क्षेत्रीय अमला मुझ से मिला तब उन्होंने मुझसे अपने कार्य को आगे बढाने की चर्चा की। जन अभियान का अमला विश्वास और प्रेरणा से भरा हुआ है। उत्साही कार्यकर्ताओं से भरा हुआ संगठन अपने विजय उद्देश्यों को प्राप्त करेगा ही इसमें जरा भी संशय नहीं है।

श्री उपाध्याय ने कहा कि जन अभियान परिषद् को अनुसंधान, प्रशिक्षण और विस्तार पर कार्य करना होगा। प्रशिक्षण और विस्तार पर पूर्व में भी कार्य हुआ है परिषद द्वारा संचालित सीएमसीएलडीपी. कोर्स एक बहुत सुन्दर प्रयोग है। इसके माध्यम से हमें प्रशिक्षत कार्यकर्ता मिले है।
हमारी प्राथमिकता का क्षेत्र अनुसंधान होना चाहिये। अनुसंधान हमारे कार्य का आवश्यक अंग है। अनुसंधान द्वारा हम नये आयामों तक पहुच सकते है इसके लिये रिसर्च बहुत आवश्यक है। कार्य के विस्तार के लिये परिषद स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ कार्य कर रही है। जन अभियान परिषद जैसे बहुआयामी संगठन के लिये रणनीति तय करना अत्यंत आवश्यक है।
उन्होंने कहा कि जन अभियान परिषद में वर्तमान के संकेत बताते है कि परिषद में शिखर से शून्य तक की जो यात्रा प्रारंभ हो गयी थी वह केवल आकाश का कुसुम बनकर नहीं रहेगी बल्कि अभ्युदय को प्राप्त करेगी।
कार्यपालक निदेशक डॉ. धीरेन्द्र कुमार पाण्डेय जी ने अतिथियों का आभार प्रकट करते हुये कहा कि जन अभियान परिषद् का नेटवर्क प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों एवं लगभग सभी ग्रामों तक विद्यमान है। ग्राम-ग्राम में प्रस्फुटन समितियां सी.एम.सी.एल.डी.पी. के छात्र, सामाजिक संस्थायें कार्यरत है। कोरोना काल में मुख्यमंत्री जी के एक आवाहन पर समितियों ने गॉव गॉव में जागरूकता अभियान चलाकर समाज को जागरूक किया। साथ ही बडी संख्या में मास्क बनाकर वितरित किए। बहुत ही थोडे समय की सूचना पर किसी भी कार्यक्रम/अभियान को सफल करने में सक्षम है। जन अभियान परिषद पूर्व के समान ही नवीन आयामों को प्राप्त करेगा। कार्यक्रम का संचालन जन अभियान परिषद के उपनिदेशक श्री अमिताभ श्रीवास्तव ने किया। 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें